बूंद बूंद पीने के पानी के लिए तरस रहे मल्हार नगर पंचायत के निवासी, कार्ययोजना केवल कागजों पर,,पूरी रिपोर्ट देखें hindtimes news

मल्हार मस्तूरी

हरिओम श्रीवास/विमल कांत की रिपोर्ट

Hindtimes मस्तूरी/मल्हार – जीवन जीने के लिए मूलभूत आवश्यकताओं मेंं से एक पानी नही मिलने से नगर पंचायत मल्हार के निवासी खासे परेशान है। प्रतिदिन नगर के वार्डवासी बड़ी संख्या में नगर पंचायत कार्यालय पहुंचकर अधिकारियों से पीने के पानी की मांग कर रहे है

पर इन अधिकारियों को कोई फर्क नही पड़ रहा वही यहां के जिम्मेदार जनप्रतिनिधि भी अधिकारियों का हवाला देकर टालमटोल कर रहे है। बताया जा रहा है कि यहां के दोनों मुख्य पानी टँकीयो को भरने वाले बोर का जलस्तर कम हो गया है जिससे टंकी भर नही पा रही है।इस वजह से पानी आपूर्ति नही हो रही है।

यह स्थिति पिछले एक माह से बनी हुआ है इस दौरान किसी ने गम्भीरता नही दिखाई परिणाम ये हुआ कि आज की स्थिति में पूरा नगर पीने के पानी नही मिलने से खासे परेशान है। सोमवार को वार्ड 9 के 50 से ज्यादा लोगो ने नगर पंचायत कार्यालय में हंगामा मचाया था, लोगो का आरोप था कि इतनी भीषण गर्मी में पानी के लिए तरस रहे पर कोई भी जिम्मेदार अधिकारी व जनप्रतिनिधि उनकी सुध नही ले रहे है। नगर पंचायत की कार्य प्रणाली पर सवाल


अमूमन प्रतिवर्ष गर्मी के पहले पीने के पानी की व्यवस्था के लिए अलग से बजट बनता था जिसमे नए बोर कराने, हेण्डपम्प सुधरवाने, पाइप डलवाने के साथ ही टँकीयो कि सफाई के अलावा नए पाइपलाइन बिछाने के कार्य किये जाते थे पर इस बार ऐसा कुछ नही किया गया जिसकी वजह से नगर वासी पानी के एक बूंद के लिए तरस रहे है। योजना की बाट जोह रहे नगरवासी नगर के लोगो की प्यास बुझाने लीलागर नदी से पानी लाकर ट्रीटमेंट के बाद पूरे नगर में आपूर्ति की करोड़ो की योजना भी ठंडे बस्ते में है। लोगो को उम्मीद थी कि इस योजना से हर घर को सुलभ तरीके से स्वच्छ पीने लायक पानी मिलेगा। लेकिन इस योजना की अब तक शुरुवात भी नही हो पाई है। जिससे लोग निराश, हताश व आक्रोशित है। इस सम्बंध में जल प्रभारी व इंजीनियर भुनेश साहू का कहना है कि योजना का डीपीआर तैयार हो गया उम्मीद है जल्द ही काम शुरू होगा। साथ ही यहां के टँकीयो को भरने 4 नए बोर एक दो दिन में हो जाएंगे जिसके बाद राहत मिलेगी।