मस्तूरी थाने में ऑपरेशन मुस्कान के तहत बिलासपुर जिले में सर्वाधिक अपहृत बालक बालिकाओं को दस्त्याब किया गया

क्राइम बिलासपुर

Hind times:- विजय सुमन संवाददाता

बिलासपुर पुलिस अधीक्षक प्रशांत अग्रवाल के निर्देश पर बिलासपुर जिले में 1 जुलाई से लेकर 31 जुलाई 2020 तक ऑपरेशन मुस्कान के तहत अधिक से अधिक अपहृत नाबालिक बच्चों की दस्तयाबी का प्रयास किया गया। इस कड़ी में मस्तूरी पुलिस द्वारा भी ऑपरेशन मुस्कान के तहत अधिक से अधिक नाबालिक बच्चों को दस्तयाब करने का लक्ष्य लेकर 1 जुलाई से गंभीरता से कार्य किया गया। इस संदर्भ में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक संजय ध्रुव तथा उप पुलिस अधीक्षक श्रीमती निमिषा पांडे के द्वारा भी मस्तूरी पुलिस का मार्गदर्शन किया गया। ऑपरेशन मुस्कान के बेहतर नतीजे प्राप्त हो इसके लिए थाना प्रभारी मस्तूरी फैजुल शाह के द्वारा अलग-अलग 4 टीम बनाकर अपहृत बालक बालिकाओं की पतासाजी एवं दस्त्याबी का प्रयास किया गया। उक्त टीम ने मुखबिर सक्रिय कर तथा साइबर सेल की सहायता लेकर 2017 से 2020 के बीच अपहृत हुए 11 बालिकाओं को अलग-अलग प्रदेशों क्रमशः *उड़ीसा उत्तर प्रदेश मध्य प्रदेश राजस्थान तथा दिल्ली* से बरामद कर उनके परिजनों के सुपुर्द किए। कुल 11 प्रकरण में 8 नाबालिक बच्चे उनके साथ किसी भी प्रकार कि अपराध घटित होना नहीं बताएं परंतु *3 प्रकरण में अपहृत बच्चे उनके साथ यौन अपराध घटित होना बताएं इन तीनों प्रकरण में पूर्व में दर्ज अपराध की धारा 363 के साथ ही भारतीय दंड संहिता की धारा 366, 376 तथा पोक्सो एक्ट की विभिन्न धाराओं के तहत कार्यवाही किया गया

तथा तीनों आरोपियों 1 *कल्लू उर्फ परमेश्वर पिता कमल प्रसाद* 2 *किशोर कुमार उर्फ बंटी पिता भागवत प्रसाद* 3 *गणपत जांगड़े पिता दाऊ राम जांगड़े* को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया। मस्तूरी थाना के विभिन्न क्षेत्र ग्रामीण प्रधान है जहां से नाबालिक बच्चे स्वेच्छा से या किसी के बहकावे में आकर घर छोड़कर अन्य क्षेत्र में काम करने के नाम पर चले जाते हैं कभी-कभी इन बच्चों के साथ अपराध भी घटित हो जाते हैं। इस संबंध में मस्तूरी पुलिस द्वारा स्थानीय लोगों से आग्रह किया गया है कि इस प्रकार किसी बहकावे में नाबालिक बच्चों को बाहर ना जाने दें ऐसी घटना की जानकारी मिलती है, तो तत्काल मस्तूरी पुलिस को सूचित करें। मस्तूरी पुलिस द्वारा आगे भी नाबालिक बालक बालिकाओं से संबंधित अपराधों में कार्यवाही की जारी रहेगी। 

महीने के भीतर 11 नाबालिक बच्चों को ढूंढा गया
9 प्रकरण में नाबालिग बालक बालिकाएं अपनी मर्जी से घर से बाहर चले गए थे इन बालक बालिकाओं को ढूंढ कर मस्तूरी पुलिस ने उनके परिजनों को सुपुर्द किया दो प्रकरण में नाबालिग बालिकाओं के साथ यौन अपराध भी घटित हुए नाबालिग बालिकाओं के साथ हुए यौन अपराध के आरोपियों को भारतीय दंड संहिता की धारा 376 तथा पोक्सो एक्ट की विभिन्न धाराओं में गिरफ्तार कर जेल भेजा गया पुलिस के प्रयास से 9 अपहृत बालक क्रमशःउड़ीसा, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, राजस्थान तथा दिल्ली से उनके घर वालों तक पहुंचाए गए 3 बालिकाएं जांजगीर तथा मस्तूरी क्षेत्र से आरोपियों के कब्जे से उनके परिजनों के सुपुर्द किए गए मस्तूरी पुलिस द्वारा आगे भी नाबालिक बालक बालिकाओं के साथ होने वाले अपराधों में तत्परता से कार्यवाही की जाएगी

उपरोक्त संपूर्ण कार्यवाही में थाना प्रभारी मस्तूरी फैजुल शाह के नेतृत्व में उपनिरीक्षक सीएस नेताम,सहायक उपनिरीक्षक हेमसागर पटेल, सहायक उप निरीक्षक प्रदीप यादव, सहायक उपनिरीक्षक भूरे दास, महिला आरक्षक प्रीति शर्मा, मीना राठौर, आरक्षक मिथिलेश सोनी, कमलेश शर्मा, संतोष पाटले, प्रेम शंकर बंजारे योगेंद्र खुटे, बसंत मानिकपुरी धर्मेंद्र साहू दीपक साहू सुरेंद्र कौशिक कृष्ण कुमार महिलांगे योगेश निर्मलकर की सराहनीय भूमिका रही*।