जांजगीर चाम्पा

कोरोना वैक्सीनेशन कराने मे सचिवो कोटवारों और परियोजना अधिकारी नही दिखा पा रहे हैं गम्भीरता नवागढ सीईओ मोहनीश देवांगन खुद लोगो को जागरूक करने निकले

Summary

Hindtimes:- जांजगीर चाम्पा जिले के नवागढ़ क्षेत्र में कोरोना वैक्सीनेशन कराने मे सचिवो कोटवारों और परियोजना अधिकारियों के पसीने छूट रहे है.। नवागढ सीईओ मोहनीश देवांगन खुद लोगो को जागरूक करने निकले मिली जानकारी के अनुसार जिले में कोविड-19 वैक्सीनेशन […]

Hindtimes:- जांजगीर चाम्पा जिले के नवागढ़ क्षेत्र में कोरोना वैक्सीनेशन कराने मे सचिवो कोटवारों और परियोजना अधिकारियों के पसीने छूट रहे है.। नवागढ सीईओ मोहनीश देवांगन खुद लोगो को जागरूक करने निकले मिली जानकारी के अनुसार जिले में कोविड-19 वैक्सीनेशन कराने में लोग रुचि नहीं ले रहे हैं और कोरोना का प्रकोप भी घर-घर बढ़ रहा है । वैक्सीनेशन कराने के लिए ग्राम पंचायत के सचिव और कोटवारों को जिम्मेदारी दी गई है लेकिन ना तो कोटवार इस विषय में मुनादी करने के लिए तैयार है और ना ही सचिव अपना काम ठीक तरह से कर पा रहे हैं । कारण बताया जा रहा है कि लोगों में कोरोना वैक्सीनेसन को लेकर इतनी भ्रांतियां हैं कि लोग कोरोना से कम डर रहे हैं और कोरोना के लिये वैक्सीनेशन कराने से ज्यादा डर रहे हैं । बताया जा रहा है कि नवागढ़ सीईओ मोहनीश आनंद अपने क्षेत्र के गांव में लोगों को जागरूक करने के लिए पहुंचे और उन्होंने लोगों को वैक्सीनेशन कराने के लिए कहा । इस पर लोगों की प्रतिक्रिया अनेक तरह की रही । कुछ लोगों ने तो नवागढ़ सीईओ को सामने देखकर हां कह दिया और कुछ लोगों ने बहुत ही उग्र प्रतिक्रिया दी । बताया जा रहा है कि ग्राम पंचायत कोटिया का एक व्यक्ति वैक्सीनेशन के नाम पर उन पर भड़क गया । दरअसल व्हाट्सएप और फेसबुक के माध्यम से इस तरह की भ्रामक खबरें बताई जा रही है कि वैक्सीनेशन के बाद लोग मर रहे है । कोरोना वैक्सीनेशन को लेकर लगातार भ्रामक खबरें फैला रहे है और यही कारण है कि कोरोना वैक्सीनेशन कराने वालों की संख्या 50% भी नहीं पहुंची है । स्वास्थ्य विभाग के द्वारा बताया जा रहा है कि कोरोना वैक्सीन को बहुत कड़े परीक्षण के बाद मानव को लगाया जा रहे हैं । इसके पूर्व इस वैक्सी को सघन परीक्षण से बार बार गुजरना पड़ा है जिससे लोगों को कोई नुकसान ना हो । इसलिए यह भ्रांति गलत है कि वैक्सीनेशन के बाद लोग मर रहे हैं । स्वास्थ्य विभाग के सर्वे के मुताबिक यह बताया जा रहा है कि जिन लोगों की वैक्सीनेशन के मरने की बात कहीं जा रही है दरअसल पूर्व में ही बीमारी से पीड़ित होने की वजह से या अन्य कारणो से मौत हुई है जिसका संबंध वैक्सीनेशन से बिल्कुल भी नहीं है । इस विषय में क्षेत्र के जनप्रतिनिधियों ने वैक्सीनेशन के पश्चात अपनी तस्वीरें फेसबुक और व्हाट्सएप में डाली हुई है जिससे लोगों को यह पता चले कि कोरोना वैक्सीनेशन के बाद किसी तरह का कोई साइड इफेक्ट नहीं होता अकलतरा सी ई ओ सत्यव्रत तिवारी ने बताया कि कापन के वैक्सीनेशन सेंटर में शिवकुमारी छाबडी दोनो पैरो से विकलांग युवती ने वैक्सीन लगवाया है और वह पूरी तरह स्वस्थ है । वैक्सी नेशन के पश्चात किसी किसी- किसी व्यक्ति को हल्का बुखार हाथ-पैर में दर्द होता है लेकिन यह भी इतना गंभीर नहीं है । उसके लिए डॉक्टरों के द्वारा साथ में गोली दी जा रही है इसलिए लोगो को भ्रामक प्रचार से बच कर वैक्सीन अवश्य ही लगाया जाना चाहिए ।