Gaganyaan Mission: इसरो ने गगनयान मिशन के पहले टेस्टिंग उड़ान के लिए कि पूरी तैयारी, इस परीक्षण पर सरकार ने दे दिया बड़ा अपडेट, 21 अक्टूबर को हो सकता है परिक्षण

नई दिल्ली, 10 अक्टूबर 2023: भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) ने चंद्रयान – 3 और सूर्य के अध्ययन के लिए आदित्य L-1 मिशन के बाद  गगनयान मिशन की पहली परीक्षण उड़ान की तैयारी पूरी कर ली है। यह उड़ान 21 अक्टूबर को श्रीहरिकोटा के सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से लॉन्च की जाएगी। गगनयान मिशन कि शुरुआत प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने 2018 में 1000 करोड़ रुपये के बजट के साथ किया था।

isro Gaganyan space mission vyommitra
ISRO-Mission-gaganyan

अगले साल 2024  के मानवयुक्त ( Gaganyaan Mission ) भेजने से पहले इस टेस्टिंग लॉन्च में एक महिला रोबोट अंतरक्ष यात्री “व्योममित्रा” 

को भेजा जाएगा टेस्टिंग लांच के आकड़ों के अध्ययन के आधार पर हम अगले वर्ष अपने  अंतरिक्षयात्री को भेजेंगे । इस टेस्टिंग लांच के मद्देनजर इंडियन नेवी ने बंगाल कि खाड़ी में मॉक अपरेशन शुरू कर दिया हैं।


Gaganyaan Mission भारत का पहला मानव अंतरिक्ष उड़ान मिशन है।

इस मिशन के तहत, तीन अंतरिक्ष यात्रियों को अंतरिक्ष में भेजा जाएगा। पहली परीक्षण उड़ान में, क्रू मॉड्यूल को अंतरिक्ष में भेजा जाएगा और इसे पृथ्वी पर सुरक्षित रूप से वापस लाया जाएगा। इस परीक्षण उड़ान में क्रू मॉड्यूल को एक रॉकेट से प्रक्षेपित किया जाएगा। रॉकेट चंद्रयान-3 मिशन के लिए इस्तेमाल किए गए GSLV Mk III रॉकेट का ही एक संस्करण होगा।

सरकार ने परीक्षण उड़ान पर दिया बड़ा अपडेट

विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री जितेंद्र सिंह ने मंगलवार को कहा कि गगनयान मिशन की पहली परीक्षण उड़ान के लिए सभी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। उन्होंने कहा कि इस उड़ान में क्रू मॉड्यूल को 6.5 दिनों के लिए अंतरिक्ष में भेजा जाएगा। गगनयान मिशन की पहली परीक्षण उड़ान के सफल होने के बाद, अगले साल के अंत में दो मानवयुक्त मिशनों की योजना है। इन मिशनों में भारतीय अंतरिक्ष यात्रियों को अंतरिक्ष में भेजा जाएगा।

सिंह ने कहा कि इस उड़ान का मुख्य उद्देश्य क्रू मॉड्यूल के सभी सिस्टम और उपकरणों का परीक्षण करना है। उन्होंने कहा कि इस उड़ान के सफल होने से भारत के मानव अंतरिक्ष उड़ान मिशन को और मजबूती मिलेगी।

गगनयान मिशन (Gaganyaan Mission)  की महत्वपूर्ण बातें

* गगनयान मिशन भारत का पहला मानव अंतरिक्ष उड़ान मिशन है। आप ISRO

* इस मिशन के तहत, तीन अंतरिक्ष यात्रियों को अंतरिक्ष में भेजा जाएगा।

* पहली परीक्षण लॉन्च उड़ान श्रीहरिकोटा के सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से  21 अक्टूबर को होने की संभावना है।

* इस उड़ान में क्रू मॉड्यूल “व्योममित्रा” को 6.5 दिनों के लिए अंतरिक्ष में भेजा जाएगा।

* इस उड़ान का मुख्य उद्देश्य क्रू मॉड्यूल के सभी सिस्टम और उपकरणों का परीक्षण करना है।

* उड़ान में क्रू मॉड्यूल  को पृथ्वी की निचली कक्षा में 400 किमी की उचाई तक  भेजा जाएगा।

* उड़ान में GSLV Mk III रॉकेट का इस्तेमाल किया जाएगा।

* परीक्षण उड़ान के सफल होने के बाद, अगले साल के अंत में दो मानवयुक्त मिशनों की योजना है।

गगनयान मिशन के लिए अंतरिक्ष यात्रियों का चयन

गगनयान मिशन के लिए अंतरिक्ष यात्रियों का चयन किया जा चुका है। इन अंतरिक्ष यात्रियों में दो पुरुष और एक महिला शामिल हैं। इन अंतरिक्ष यात्रियों को कड़ी ट्रेनिंग दी जा रही है। विस्तार से जानने के लिए आप इसरो कि वेबसाईट   देख सकते हैं ।

गगनयान मिशन का महत्व 

गगनयान मिशन भारत के लिए एक ऐतिहासिक उपलब्धि है। इस मिशन के सफल होने से भारत अंतरिक्ष क्षेत्र में एक प्रमुख शक्ति के रूप में उभरेगा। यह भारत को अंतरिक्ष में मानव मिशन भेजने वाले देशों की सूची में शामिल करेगा।

गगनयान मिशन की सफलता के लिए शुभकामनाएं

गगनयान मिशन भारत के लिए एक महत्वपूर्ण उपलब्धि है। इस मिशन की सफलता से भारत अंतरिक्ष क्षेत्र में एक प्रमुख शक्ति के रूप में उभरेगा। हम सभी गगनयान मिशन की सफलता के लिए शुभकामनाएं देते हैं।

आपका यहा आने के लिए दिल से धन्यवाद आप स्वस्थ्य और प्रसन्न रहे ।

यह जरूर पढ़े –

भारतीय रिजर्व बैंक(RBI) ने बैंक ऑफ बड़ौदा (BoB) पर बड़ा एक्शन लिया है। 

निफ्टी 50 (Nifty 50) क्या है पूरा जाने विस्तार से 

Leave a Comment