एमएससी जूलॉजी के विभागाध्यक्ष प्रोफेसर भुवन सिंह राज एवं प्रोफेसर कुमारी सुमन पटेल की मनमानी ,

बिलासपुर मस्तूरी

Hindtimes बिलासपुर शासकीय पातालेश्वर महाविद्यालय मस्तूरी के एमएससी जूलॉजी के विभागाध्यक्ष प्रोफेसर भुवन सिंह राज एवं प्रोफेसर कुमारी सुमन पटेल की मनमानी ,
छात्रों को शारीरिक मानसिक एवं आर्थिक रूप से किया जा रहा प्रताड़ित ,जिसके खिलाफ छात्रों ने की आवाज बुलंद
शासकीय महाविद्यालय मस्तूरी जो कि पूर्व में भी प्रिंसिपल एवं प्रोफेसरों के बीच विवादों का गढ़ रहा है वहां एक बार फिर से एमएससी जूलॉजी विभाग विवादों के घेरे में है |
जिसके अंतर्गत संबंधित विभाग के विभागाध्यक्ष प्रोफेसर भुवन सिंह राज व मैडम सुमन पटेल के द्वारा छात्रों को शारीरिक मानसिक एवं आर्थिक रूप से प्रताड़ित किया जा रहा है,अपने केबिन में बुलाकर श्री राज सर के द्वारा छात्रों से अपशब्द एवं गैर मानवीय पूर्ण तरीके से बात की गई |प्रोजेक्ट के नाम पर महंगी महंगी किताबें बाजार से खरीद कर लाने के लिए विवश किया गया, किताबें नही लाने पर प्रैक्टिकल नंबर कम करने की खुली धमकी दी गई साथ ही प्रैक्टिकल में अच्छे नंबर देने की आवाज में पैसों की मांग की गई और पैसे नहीं देने की स्थिति में प्रैक्टिकल नंबर निम्न स्तर का देने की बात की जा रही है, इसकी शिकायत प्रिंसिपल के समक्ष करने पर प्रिंसिपल के द्वारा किसी प्रकार का ठोस कदम नहीं उठाया जा रहा है बल्कि संबंधित प्रोफेसर को संरक्षण प्रदान किया जा रहा है |
ऐसी परिस्थिति से मजबूर होकर आज दिनांक 27 जनवरी 2022 विधिवत आवेदन लिखित रूप से प्रिंसिपल को सौंपा गया आवेदन की प्रतिलिपि माननीय राज्यपाल, कुलपति,{अटल बिहारी वाजपई विश्वविद्यालय}, मुख्यमंत्री कार्यालय,सचिव उच्च शिक्षा विभाग रायपुर, कलेक्टर बिलासपुर, पुलिस अधीक्षक बिलासपुर, एसडीएम मस्तूरी, थाना मस्तूरी ,सम्मानीय विधायक मस्तूरी, सांसद बिलासपुर लोकसभा, साथ ही साथ यूजीसी (NAAC) नई दिल्ली को प्रेषित की जा रही है |जिसमें मांग रखा गया है कि ऐसे भ्रष्ट, विद्यार्थियों के जीवन से पैसे लेकर खिलवाड़ करने वाले, अनैतिक, भ्रष्ट छवि के प्रोफेसर को जल्द से जल्द अन्यत्र स्थानांतरित करने या सेवा से निष्कासित करने की मांग छात्रों के द्वारा की गई है अन्यथा निकट भविष्य में शोषित विद्यार्थियों के द्वारा भविष्य के साथ हो रहे खिलवाड़ को देखते हुए खुद के जीवन के साथ खिलवाड़ करने (आत्मदाह) में मजबूर हो जाएंगे ।