कंटेन्मेंट जोन में रहने वाले के घरो से नही उठाने दिए स्वीपर को कचड़ा साथ ही महिलाओं से किया गया दुर्व्यवहार को लेकर हुआ विवाद कंटेनमेंट जोन बनाए जाने और बैरिकेडिग को लेकर विरोध भी स्वर में दे रहे सुनाई ।

बिलासपुर

Hindtimes :- बिलासपुर जिले के अंतर्गत मस्तूरी से लगे नगर मल्हार पंचायत में वार्ड क्रमांक 6 में दो दिन पहले  एक कोरोना पोसिटिव मिलने के बाद से हड़कंप मच गया जिसके बाद ही कंटेन्मेंट जोन बनाया गया है लेकिन कंटेन्मेंट जोन के लिए जारी किए गए नियमो का पालन होते हुए नजर नही आ रहे हैं न ही नगर पंचायत मल्हार भी ध्यान नही दे रहे हैं कर्मचारियों की उदासीनता के चलते  लापरवाही बरतने में भी कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं । 

बता दे कि इन दिनों कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के बीच जिला प्रशासन ने जिस क्षेत्र में संक्रमित पाए जा रहे हैं उन शहर से लेकर ग्रामीण क्षेत्रों में भी कंटेनमेंट जोन और बफर जोन घोषित कर दिया है। इन इलाकों में पुलिस द्वारा भी निगरानी किया जा रहा  है। साथ ही बैरिकेडिंग करते हुए आवागमन को प्रतिबंधित कर दिया गया है। प्रशासन द्वारा संक्रमण रोकने के लिए कंटेनमेंट जोन बनाने के बाद विवाद की स्थिति भी नजर आ रही है। वार्ड क्रमांक 6 के समुदाय विशेष इलाके में शनिवार की दोपहर से लोगों ने गलत तरीके से बैरिकेडिंग करने का ही विरोध किया। जिस तरह से बेरीकेट करने का आदेश आया है उस आधार में नही होने की बात कह रहे है।


कंटेन्मेंट जोन में रहने वाले ग्रामीणों का आरोप है कि पास में ही जिसका कोरोना पोसिटिव आया है वो अग्रवाल किराना दुकान वाले से उनके सम्पर्क में था और उस  दुकान में घण्टो समय तक बैठे रहता था  लेकिन उनके दुकान तक बेरीकेट नही किया गया साथ ही आसपास के ग्रामीण अपने घरों से कचड़ा निकाल कर बाहर रखा हुआ जिसे भी कुछ लोगो द्वारा उठाने नहीं दिया हमारे वार्ड के लोगो को भी उल्टे सीधे बात कर रहे हैं जिसके बाद तनाव की स्थिति बन गया और एक स्वर में ही अग्रवाल किराना दुकान का भी विरोध शुरू कर दिया । कंटेन्मेंट जोन में रहने वाले लोगो ने किया 112 को फोन मल्हार चौकी प्रभारी ने  दी समझाईस फिर हुआ विवाद शांत । 

ग्रामीणों का यह भी आरोप है कि जिस तरह से कंटेन्मेंट  जोन बनाया गया उसके आधार में किसी प्रकार का नियमो का पालन नहीं हो रहा हैं सिर्फ एक विशेष समुदाय के लोगो को परेशान किया जा रहा है।

वार्ड क्रमांक 6 के पार्षद संतोष देवांगन का कहना है कि  सुबह कचड़ा उठाने आए हुए स्वीपर को  मना किया जिसके कारण ही विवाद हुआ है पुलिस के आने पर समझाइस दी गई तब मामला शांत हुआ विवाद की स्थिति बन गई थी।