फर्जीवाड़ा करने वाले यह सरपंच अब कांग्रेस पार्टी में सदस्यता लेने की तैयारी में जनपद पंचायत में सरपंच द्वारा फर्जी बिल लगाकर हेराफेरी कर राशि निकालने का उपसरपंच ने लगाया आरोप एसडीएम से की गई थी शिकायत सीईओ की अध्यक्षता में जांच दल हुआ गठित

बलौदा बाजार

Hindtimes:- बिलाईगढ़ जनपद पंचायत के उपसरपंच चंद्रपाल यादव ने सरपंच महेंद्र श्रीवास पर फर्जी बिल बनाकर राशि आहरित करने की शिकायत बिलाईगढ एसडीएम से की गई, बताया जा रहा हैं कि  जांच मे सरपंच के द्वारा 5,91,568 की गडबडी पायी गयी । मिली जानकारी के अनुसार बिलाईगढ़ जनपद के  ग्राम पंचायत पवनी में सरपंच महेन्द्र श्रीवास के द्वारा 84 मजदूरो का फर्जी बिल बनाकर राशि आहरित करने का मामला सामने आया जिसकी शिकायत उपसरपंच चंद्रपाल ने एस डी एम बिलाईगढ से की थी । इस गड़बड़ी का  खुलासा आरटीआई कार्यकर्ता नरेंद्र साहू के द्वारा के सूचना का अधिकार के तहत जानकारी मांगी गयी जिसमें उन्होंने यह पाया कि ग्राम पवनी मे 6 म्ई से 22 जुलाई तक कुल 271 मजदूर क्वारेन्टाइन कुल 14 दिनो के लिए किये गये थे जिसे सरपंच के द्वारा 271 के स्थान पर 23 मजदूर ज्यादा 294 मजदूरों का बिल बनाकर राशि आहरित किया गया है जबकि मजदूरों की संख्या  271और क्वारेन्टाइन अवधि 14 -14 दिनों की थी । सरपंच महेंद्र श्रीवास ने चौदहवे वित्त से 13 लाख की राशि क्वारेन्टाइन सेंटर के अलावा अन्य कामो का फर्जी बिल बनाकर आहरित की है । जिसकी शिकायत उपसरपंच चंद्रपाल ने एसडीएम से की है एसडीएम ने इस फर्जी बिल की शिकायत पर जनपद पंचायत बिलाईगढ़ सीईओ कुलेश्वर गायकवाड़ की अध्यक्षता में जांच दल गठित किया है जिसमे सीईओ कुलेश्वर गायकवाड के द्वारा जांच करने पर पावनी सरपंच महेंद्र श्रीवास के द्वारा ₹591568 की गड़बड़ी पाई गई है और अन्य गड़बड़ियां और अनियमितता भी पाई गई है । सूत्रों की माने तो वही सरपंच अपने गड़बड़ी छुपाने के लिए  अब कांग्रेस मे शामिल होने की आशंका जताया जा रहा है।
इस पूरे मामले को लेकर  जनपद सीईओ से जानकारी ली गई तो उनका कहना हैं कि  अन्य फर्जी बिलों की भी जांच की जा रही है और पूरी तरह जांच के बाद स्पष्ट हो पाएगा कि वास्तविक गड़बड़ी कितने लाख की है ।